Main Sliderअन्य राज्य

सचिन पायलट को डिप्टी सीएम और राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष पद से किया गया बर्खास्त!

नई दिल्‍ली:  बागी नेता सचिन पायलट पर कार्रवाई करते हुए कांग्रेस ने उन्‍हें सभी पदों से हटा दिया है। राजस्‍थान की अशोक गहलोत सरकार में उप-मुख्‍यमंत्री रहे पायलट से प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष का जिम्‍मा भी ले लिया गया है। कांग्रेस के कई नेताओं ने पायलट को मनाने की बहुत कोशिश मगर वह नहीं माने। जिसके बाद कांग्रेस आलाकमान ने यह फैसला किया।

दिल्‍ली से जयपुर गए रणदीप सुरजेवाला ने पायलट को हटाने का ऐलान किया। उनकी जगह पर ओबीसी नेता गोविंद सिंह डोटासरा को प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया है। सुरजेवाला ने यह ऐलान करते हुए पायलट को खूब कोसा। उन्‍होंने यह जता दिया कि पार्टी ने पायलट को मनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। सुरजेवाला ने पार्टी के पायलट पर किए गए ‘अहसान’ गिनाते हुए कहा कि ‘छोटी उम्र में पार्टी ने उन्‍हें जो राजनीतिक ताकत दी, वह किसी और को नहीं दी गई।’ राजस्थान में सियासी घमासान के बीच कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मौजूद 102 विधायकों ने डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट को दोनों पदों से हटाने का प्रस्ताव पास किया है। यह बैठक जयपुर के एक होटल में चल रही थी। आपको बता दें कि पार्टी की ओर से दूसरे दिन बुलाई गई विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट फिर शामिल नहीं हुए थे।

इसस पहले सचिन पायलट के खुलकर बागी तेवर अपना लेने के बाद कांग्रेस ने सोमवार सुबह जयपुर में विधायक दल की बैठक बुलाई थी, लेकिन इसमें भी पायलट और उनके समर्थक विधायक नहीं पहुंचे थे। इस बैठक में शामिल विधायकों ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में आस्था प्रकट की और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के प्रति समर्थन जताया।

सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री और राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष दोनों से हटा दिया गया। उनके साथ-साथ दो और मंत्रियों को भी पद से हटाने का फैसला लिया गया है। विश्वेन्द्र सिंह और रमेश मीणा को मंत्री पद से बर्खास्त करने का फैसला लिया गया है। गोविंद सिंह दोतासरा को राजस्थान कांग्रेस को नया अध्यक्ष बनाया गया है।

जयपुर में आयोजित विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट का राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष पद से बर्खास्त करने का फैसला लिया गया है। इसको लेकर विधायकों ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास किया है।

सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक कांग्रेस विधायक दल की बैठक में 102 विधायक मौजूद हैं। उन्होंने एक स्वर में सचिन पायलट को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाने की मांग।

फिलहाल BJP फ्लोर टेस्ट की मांग की मूड में नहीं
राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष सतीश पूनिया ने मंगलवार को कहा कि पार्टी फिलहाल विधानसभा में फ्लोर टेस्ट की मांग नहीं कर रही है। फ्लोर टेस्ट के बारे में पूछे जाने पर पूनिया ने कहा, “वर्तमान में हम अभी कुछ भी नहीं मांग रहे हैं। हमारी प्राथमिकता यह थी कि यह एक भ्रष्ट सरकार है और इसने कोरोना वायरस संकट में कुप्रबंधन किया है। यह एक कमजोर सरकार बन गई है। पहली बात यह है कि इस सरकार को राज्य के लोगों के हित के बारे में सोचना चाहिए।”

जयपुर के होटल में जारी है कांग्रेस विधायक दल की बैठक
जयपुर के फेयरमोंट होटल में कांग्रेस विधायक दल की बैठक हो रही है। इससे पहले सोमवार को, उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित 20 विधायक राज्य में राजनीतिक संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास पर आयोजित कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए थे।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, अहमद पटेल, पी चिदंबरम और केसी वेणुगोपाल कई बार सचिन पायलट से बात कर चुके हैं। हालांकि, सूत्रों ने कहा कि आज कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पायलट के शामिल होने की बहुत कम संभावना है।

राजस्थान राजनीतिक संकट पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ‘घर सजाने का तस्सवूर तो बहुत बाद में है, पहले ये तो तय करो कि घर को बचाएं कैसे। घर सजाना तब जब घर बचेगा। कांग्रेस पार्टी की लीडरशिप में नेगेटिविटी इतनी भरी हुई है कि उसका असर खुद उन्हें दिखाई पड़ रहा है।’

सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस विधायक दल की बैठक बार-बार सचिन पायलट को यह संदेश भेजने के लिए की जा रही है कि अभी भी उनके वापस आने का समय है। पार्टी का शीर्ष नेतृत्व के रुख में अभी भी उनके लिए लचीलापन है। आगे की कार्रवाई के बारे में आज की बैठक के बाद निर्णय लिया जाएगा।

सूत्र ने यह भी बताया कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा, अहमद पटेल, पी. चिदंबरम और केसी वेणुगोपाल ने कई बार सचिन पायलट से बात की है, लेकिन आज उनके सीएलपी में शामिल होने की संभावना कम है।

loading...
Loading...

Related Articles