मथुरा

सीवर लाइनः सुरक्षा मानकों की अनदेखी पर चेतावनी, अतिक्रमण पर जुर्माना

मथुरा। राही रेस्टोरेंट चैराहा से मसानी तक, प्रेम महाविद्यालय पाॅलिटेक्निक से मसानी तक तथा अग्रसेन चैराहा से भूतेश्वर रेलवे पुल के पास तक सीवर लाइन का काम चल रहा है। इस दौरान नोडल एजेंसी सुरक्षा मानकों का जमकर उल्लंघन कर रही है। इसे लेकर लगातार शिकायतें भी मिल रही थीं। जिलाधिकारी सर्वज्ञरामि मिश्र ने गुरूवार को स्थलीय किया। सुरक्षा मानकों का पालन नहीं किये जाने पर नाराजगी जताई लेकिन किसी तरह की कोई कार्यवाही नहीं की गई। हालांकि जिस तरह से काम किया जा रहा है किसी भी समय कोई बडा हादसा हो सकता है।
जिलाधिकारी ने औचक निरीक्षण में जगह-जगह पायी गयी धूल तथा बिना वैरीकैटिंग किये जा रहे निर्माण कार्य पर ने सहायक अभियंता जल निगम पर अपनी नाराजगी प्रकट की। उन्होंने निर्माणाधीन सड़कों को मोक्षधाम, आकाशवाणी के पास राधापुरम, वृन्दावन तथा अनेक स्थानों पर कार्य किये जा रहे स्थल पर स्वयं निरीक्षण किया एवं जानकारी प्राप्त की।
श्री मिश्र ने निर्देश दिये कि उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार वैरीकैटिंग करके या ग्रीन कपड़ा लगाकर कार्य किया जाये, साथ ही निर्माणाधीन क्षेत्र में पानी का छिड़काव किया जाये, जिससे क्षेत्र में धूल न उड़े। प्रेम महाविद्यालय पाॅलिटेक्निक के पास बन्द पड़े कार्य को देखकर भी जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रत्येक दशा में कार्य 31 जुलाई तक पूर्ण किया जाये। इसके लिए अधिक लेवर लगाये जायें और काम को भी अधिक समय तक किया जाये।
जिलाधिकारी ने कहा कि खुदाई का कार्य होने के कारण यातायात में बाधा उत्पन्न हो रही है। जनता की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए कार्य को यथाशीघ्र पूरा किया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि जिन क्षेत्रों में खुदाई की जा रही है, उस क्षेत्र के जूनियर इंजीनियर हाईडिल से इस आशय का प्रमाण पत्र ले लिया जाये कि लाईन कंही भी क्षतिग्रस्त नहीं हुई है।
श्री मिश्र ने उप जिलाधिकारी राजीव एवं अपर नगर आयुक्त को यथाशीघ्र कार्य पूर्ण कराने एवं निर्माणाधीन कार्य एवं पूर्ण किये गये कार्य का सत्यापन कराने तथा गुणवत्ता की जांच कराने के भी निर्देश दिये।
तत्पश्चात उन्होंने डीग गेट पर हटाये जा रहे अतिक्रमण का निरीक्षण किया तथा निर्देश दिये कि पुनः अतिक्रमण न होने दिया जाये। जिलाधिकारी के साथ नगर आयुक्त रविन्द्र कुमार मांदड़ ने बताया कि अतिक्रमण करने पर चार हजार रूपये जुर्माने के नगद तथा 6 हजार रूपये के चालान काटे गये हैं।
निरीक्षण के दौरान जल निगम के इंजीनियर केपी सिंह, आरपी यादव, लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता सनसवीर सिंह एवं अतिक्रमण हटाने में नगर मजिस्टेªट मनोज कुमार सिंह, सीओ सिटी आलोक दुबे तथा अपर नगर आयुक्त सहित पुलिस फोर्स आदि उपस्थित थे।

loading...
Loading...

Related Articles