बस्ती

मत्स्य पालन में स्वरोजगार की अपार संभावनाएं: डॉ सिंह

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान योजनान्तर्गत कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती पर तीन दिवसीय प्रसिक्षण प्रवासी श्रमिको को प्रदान किया। समापन सत्र में मुख्य अतिथि वैज्ञानिक सलाहकार समिति के माननीय सदस्य राणा दिनेश प्रताप सिंह ने कहा कि किसान भाई एकीकृत किसान प्रणाली जैसे मत्स्य पालन, बकरी पालन, वर्मी कम्पोस्ट, सब्जियो की खेती, पशु पालन, खाद्यान्न फसलों को खेती मे सम्मिलित करते हुए कार्य करे जिससे उनकी आय का स्त्रोत अधिक हो सके तथा लोगो का बाहर पलायन रुके। विसिस्ट अतिथि श्री राम वचन उपनिदेशक (कृषि रक्षा) बस्ती मंडल, बस्ती ने कहा की किसान भाई अपने खेती क साथ-साथ कृशिगत अन्य व्यवसाय को जरुर अपनाये, जिससे आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी हो सके। इस हेतु प्रसिक्षण मे प्राप्त जानकारी को अपनाकर करे। केंद्र के अध्यक्ष डॉ एस एन सिंह ने कहा की मत्स्य पालन के द्वारा वर्ष भर रोजगार का सृजन किया जा सकता है। पूर्वांचल के कृषक मत्स्य पालन मुर्गी पालन बकरी पालन तथा पशु पालन का कार्य कर स्वावलंबी हो सकते है। कोर्स कोआर्डिनेटर डॉ डी के श्रीवास्तव ने मुर्गी पालन, बकरी पालन एवं तालाब के बन्धो पर लता वाली सब्ज़ी आदि की वृहद जानकारी प्रवासी श्रमिको को प्रदान किया। डॉ राकेश शर्मा ने जालीय खरपतवार के नियंत्रण एवं खाद्यान्न फसलो के उत्पादन की जानकारी प्रदान की। डॉ आर वी सिंह ने तालाब के किनारे बावर विधि से सब्जियो की खेती तथा तालाब प्रबंधन की जानकारी प्रदान की। डॉ प्रेम शंकर ने मछलियों मे लगने वाले प्रमुख रोग एवं उन्के नियन्त्रण के बारे मे सभी प्रसिक्षरथीयो को जनोअरि प्रदान की। डॉ वीना सचान ने तालाब के किनारे वर्ष भर सब्ज़ी उत्पादन के बारे मे जानकारी प्रदान की। विसिस्ट अतिथि राणा दिनेश प्रताप सिंह ने सभी प्रवासी सृमीको को प्रमाण पत्र प्रदान कर जनपद मे रह्ते हुए स्वयं का रोजगार स्थापित करने पर बल दिया।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button