Wednesday, December 8, 2021 at 2:25 PM

निर्धन परिवार की बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने पर जोर

बिजनौर ।  महिला सशक्तिकरण के तहत निर्धन परिवार की बेटियों को आत्मनिर्भर बनाने पर जोर दिया गया। इस दौरान युवतियों को वेस्ट प्रोडक्ट से जरूरत की वस्तुएं बनाने और रोजगार की जानकारी दी गई। कार्यक्रम में संस्था के संस्थापक मनोज कुमार, सचिव लाल चौधरी और जिलाध्यक्ष पूजा भारद्वाज आदि ने युवतियों को आत्मनिर्भर बनने को प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि निर्धन परिवारों की बेटियां अपनी प्रतिभा के बल पर स्वयं आगे बढ़कर परिवार का सहारा बन सकती हैं। कार्यक्रम में संस्था के पदाधिकारियों ने युवतियों को घर में बेकार पड़े सामान से जरूरत की वस्तुएं बनाने जैसे साड़ी व कपड़ों के कवर और सजावट की वस्तुएं बनाने की जानकारी दी। इसके अलावा जैविक खेती, किचन गार्डन में औषधीय पौधे आदि उगाने के बारे में भी बताया गया। कार्यक्रम में राजीव चौहान, अभिषेक कुमार, सोनू वर्क, प्रवेश कुमारी, संगीता अग्रवाल, मनसा वर्मा, हर्षिता राजपूत, रेनू रानी, नीलू रानी, संगीता कुमारी, मीनाक्षी, अनिता, सुरेश रानी, कविता सिंह, दीपमाला, अदिति राजपूत, उर्मिला सिंह, वसुधा और ज्योति रानी मौजूद रहे।  नगर पालिका प्रशासन हल्दौर द्वारा अतिक्रमण हटाने के दौरान एक दिव्यांग व्यक्ति ने अपना खोखा हटाए जाने पर निर्वस्त्र होकर विरोध जताया। मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर ने खोखा मालिक के खिलाफ सार्वजनिक अश्लील प्रदर्शन करने और खोखा न हटाने पर कार्रवाई करने की चेतावनी दी तो खोखा स्वामी शांत होकर चला गया।

हल्दौर थाना क्षेत्र के गांव कुम्हारपुरा निवासी एक दिव्यांग का पालिका कार्यालय हल्दौर के सामने सड़क किनारे एक रेडीमेड कपड़ों का खोखा था। कमिश्नर के आदेश पर पालिका प्रशासन द्वारा शहर के मुख्य मार्गों के किनारे स्थित अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए गए हैं। मंगलवार शाम अतिक्रमण हटाने के दौरान दिव्यांग ने अपने खोखा हटाने का विरोध किया। इस पर पुलिस में हड़कंप मच गया। बुधवार सुबह पालिका प्रशासन पुलिस के साथ अतिक्रमण हटाने पहुंचे। आक्रोशित दिव्यांग ने अतिक्रमण के दौरान अपना खोखा हटाने का विरोध किया और उन पर पथराव किया। पथराव के दौरान कुछ पालिका कर्मचारी मामूली रूप से घायल हो गए। इसके बाद खोखा हटाएं जाने के विरोध में खोखा स्वामी निर्वस्त्र हो गया। सूचना पर पहुंचे एसडीएम सदर देवेंद्र सिंह व एसओ उदय प्रताप सिंह ने उक्त खोखा स्वामी को समझाने का प्रयास तो उनके साथ भी गाली-गलौज की। एसडीएम के आश्वासन पर खोखा स्वामी शांत हो गया। पालिका चेयरमैन अमर सिंह उर्फ पम्मी का कहना है कि उन्होंने दिव्यांग को दुकान के बाहर खोखा लगवाया था। उसने यह खोखा बिना बताए किसी को बेच दिया।