इस मंदिर में ईश्वर खुद आशीर्वाद के रूप में करता है न्याय

भारत को देवी देवताओं की जन्मभूमि कहने के साथ ही इसे चमत्कारों का देश भी कहा जाता है. अपने ऐसी कई धारणाएं सुनी होंगी कि इस शहर के इस मंदिर में जाने से आपकी इस परेशानी का हल होता है. इस तरह की बातों को सच करने वाला यह मंदिर जहाँ कई दशकों से भक्त आकर अपनी समस्या को चिठ्ठी में लिखते है और उनकी हर परेशानी का झट से हल मिल जाता है.

भारत की देवभूमि कही जाने वाले उत्तराखंड के अल्मोड़ा में एक ऐसा मंदिर है जहां सिर्फ चिट्ठियां भेजने से ही सारी मुरादें पूरी हो जाती है. वैसे तो हिन्दू धर्म में शनि को न्याय का देवता कहा जाता है पर इस मंदिर में विराजमान गोलू देवता को न्याय के देव के रूप में पूजा जाता है. यह मंदिर पूरे भारत में न्याय दिलाने के लिए प्रसिद्द है. इस मंदिर से जुड़ी कई मान्यताओं में एक यह है कि जिन्हें कहीं न्याय नही मिलता उनको भी गोलू देवता की शरण में पहुंचने से न्याय मिल जाता है.

चमोली में गोलू देवता को कुल देवता के रूप में पूजा जाता है.गोलू देवता की गौर भैरव (शिव ) के अवतार के रूप में आराधना की जाती है. इस मंदिर की यह भी मान्यता है कि यदि कोई नवविवाहित जोड़ा इस मंदिर में दर्शन के लिए आता है तो उनका रिश्ता सात जन्मों तक बना रहता है और उनका जीवन मंगलमय व्यतीत होता है.
इस मंदिर से जुड़ी यह शरण है कि संकट के समय सच्चे मन से एक बार गोलू देवता की प्रार्थना करने से हर परेशानी दूर हो जाती है . इसके साथ ही इस मंदिर में कानूनी मुकदमे, न्याय, व्यवसाय, मानसिक परेशानी, नौकरी, गलत अभियोग, जमीन जायदाद से जुड़े मामलों पर अर्जियां भी लगाई जाती है और न्याय मिलने या मन्नत पूरी होने पर श्रद्धालु मंदिर में घंटियां चढ़ाते हैं.

=>