शिक्षा—रोजगार

सफलता के लिए उत्साही कार्यों से करें काम की शुरुआत, इन 5 बातों को अपनाकर आप भी हो सकते हैं सफल

कई लोग ऐसे होते हैं जो मेहनत तो बहुत करते हैं पर सफल नहीं हो पाते। ऐसे में उनके मन में सवाल होता है कि सफल और प्रभावशाली लोग आखिर ऐसा क्या करते हैं जिससे सफलता उनके कदम चूमने लगती हैं? ये लोग कैसे लगातार खुद से प्रेरित होते हैं? डॉ. उज्ज्वल पाटनी (बिजनेस कोच, मोटिवेशनल ऑथर) से जानते हैं वे पांच सूत्र जो सफल लोग लगातार अपनाते हैं।

वे उत्साही कार्यों से शुरुआत करते हैं

सफल लोग अपने दिन की शुरुअात उन उत्साही कार्यों के साथ करते हैं, जिन्हें करने में सबसे ज़्यादा आनंद और सुख की अनुभूति होती है। इससे पूरे दिन के लिए एक पॉजिटिव मूड बन जाता है और सुबह-सुबह ही सफलता प्राप्त हो जाने से दिन भर एनर्जी बनी रहती है। ऐसे कार्य जिनमें ऊर्जा व्यर्थ होती हो, जिन्हें करने में समय जाता हो और अच्छा महसूस ना होता हो, वे ऐसे कार्य दूसरों को सौंप देते हैं। वे इस बात में यकीन नहीं करते कि हर काम खुद किया जाए। यदि आप सर्वाधिक ऊर्जा के समय अपने सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्यों को करने की आदत बना लें तो आपके काम पूरे होने का प्रतिशत अपने आप बढ़ जाएगा।

सफल लोगों के साथ वक़्त बिताते हैं

मेरा यकीन है कि हम जिन लोगों से घिरे रहते हैं, वे हमारे सोचने और कार्य करने के तरीकों पर प्रभाव डालते हैं। दिनभर में हमारी जो छोटी-छोटी मुलाकातें होती हैं, वे तय करती हैं कि हमारा दिन किस दिशा में जाएगा। यदि आप हर दिन कुछ बेहद प्रेरक और शक्तिशाली लोगों से मिलें तो आपके भीतर नई ऊर्जा का संचार होगा। यदि आप नकारात्मक लोगों को नज़रअंदाज़ करें तो आपकी सकारात्मक ऊर्जा आपके पास बची रहेगी। आपके परिजन, जीवनसाथी और स्टाफ के सोचने का तरीका भी आपके जीवन पर असर डालता है। जिन पांच लोगों के साथ सर्वाधिक वक्त बिताते हैं, आप उनके एवरेज होते हैं। इसलिए मैं नकारात्मक लोगों से दूरी रखता हूं।

वे सफलता का ज़श्न मनाते हैं

जब आप किसी कार्य के लिए पुरस्कृत किए जाते हैं, तो आप उसे बार-बार दोहराते हैं। तो यदि आप अपनी सफलताओं पर खुद को पुरस्कृत करें और जश्न मनाएं तो आपकी सफलता का प्रतिशत बढ़ जाएगा। अपने आपको ऐसा बना लीजिए कि छोटे-छोटे मील के पत्थरों को भी सेलिब्रेट करेंगे। आप केवल बड़ी मंज़िल के इंतज़ार में अपने वर्तमान को नष्ट नहीं करेंगे। अपने आप से कहिए कि मुझे स्वयं पर गर्व है। मेरा जन्म कुछ ख़ास करने के लिए हुआ है और मैं हर दिन को सर्वश्रेष्ठ तरीके से बिताता हूं।

विफलताओं पर माफ़ करते हैं

कई लोग छोटी-सी विफलता आने पर अपने आप को कोसने लगते हैं। नया प्रयास करने की जगह असफल क्यों हुए, यह सोचते हुए अपना वक़्त ख़त्म कर देते हैं। हम अपनी काबिलियत पर भी सवालिया निशान लगा लेते हैं। मन में यह सवाल आता है कि हम योग्य हैं भी या नहीं। हम अनजाने में अपने आप को सज़ा देने लग जाते हैं। हम अपने आस-पास वाले लोगों से भी दुर्व्यवहार करके उनको भी सजा देने लग जाते हैं। याद रखिए कि गिरना बुरा नहीं है, गिरकर गिरे रह जाना बुरा होता है। असफल होना बुरा नहीं है, लेकिन असफल होकर निराश हो जाना और खुद को ख़त्म कर देना बुरा है। तो अपनी असफलताओं से खुद के प्रति सहानुभूति रखिए। सोचिए कि कोई दूसरा व्यक्ति अगर असफल होने पर आपके पास सलाह मांगने आता तो क्या आप उस पर कटाक्ष करते उसे ख़त्म कर देते या आप उसको यह समझाते कि कोई बात नहीं, यह तो सिर्फ एक पड़ाव है।

वे दृढ़ता से ‘ना’ कहते हैं

हर व्यक्ति को हां कह देना इंसान को असफल बनाने का सबसे आसान मंत्र है। यदि आप हर लक्ष्य को हां कर देंगे तो आप कुछ भी हासिल नहीं कर पाएंगे। यदि आप हर व्यक्ति को हां कहेंगे तो आपका दिन ऐसे कामों में ख़त्म हो जाएगा जिनकी आपने कभी योजना नहीं बनाई थी। आपने जो खुद के लिए प्रमुख लक्ष्य चुने हैं, उनके अलावा दूसरे लक्ष्य आए तो ना कह दीजिए। यदि आपको ऐसे लोगों से तुलना करने को कहा जाता है जिनका सपना और आपका सपना अलग है तो ना कर दीजिए। यदि कोई आपकी दिनचर्या को अपने स्वार्थ के लिए बदलने का प्रयास करता है तो ना कह दीजिए। कभी-कभी अपनी सबसे पसंदीदा चीज़ को भी ना कहना पड़ता है। मान लीजिए कल सुबह आपकी एक जरूरी मीटिंग है और आज रात को एक जबरदस्त पार्टी होने जा रही है जिसमें खूब जश्न होगा। अब आपको यहां चुनाव करना है कि सुबह की मीटिंग में मैं सर्वश्रेष्ठ तैयारी के साथ जाऊं या रात की पार्टी का आनंद उठाऊं। आपके चुनाव आपकी उपलब्धियों को तय करते हैं।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button