UKADD
Saturday, October 16, 2021 at 4:37 AM

नशीला पदार्थ पीने से अधेड़ की संदिग्ध मौत

राजापाकर, वैशाली। थाना क्षेत्र के बैकुंठपुर गांव में नशीला पदार्थ पीने से 53 वर्षीय अधेड़ की मौत हो गई, जबकि दूसरे व्यक्ति का हाजीपुर के एक निजी नर्सिंग होम में इलाज चल रहा है। अधेड़ की संदिग्ध मौत और एक के गंभीर बीमार होने की खबर फैलते ही आसपास में सनसनी फैल गई। इसके बाद बड़ी संख्या में लोग यहां जुट गए और सूचना पर पुलिस भी पहुंच कर छानबीन प्रारंभ कर दी है। घटना के बाद महुआ एसडीपीओ पूनम केसरी ने बैकुंठपुर पहुंच कर पीड़ित परिवार के लोगों से इसकी जानकारी ली है।

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार बैकुंठपुर गांव वार्ड नंबर 3 निवासी 53 वर्षीय मृतक रणजीत कुमार सिंह पटना स्थित डीसी फार्मा में गार्ड का काम करता था। रणजीत की पत्नी ललिता सिंह ने बताया कि वह 10 अक्टूबर की रात पटना से ड्यूटी कर लौटे थे। खाना खाकर दरवाजे पर ही बैठे थे कि इसी रास्ते से गांव के बुलबुल झा एवं दो बेटे तथा कई अन्य बोरी में शराब की बोतल रखकर बांसवारी की ओर ले जा रहा था, जिसे मेरे पति ने देख लिया। बुलबुल झा को संदेह हो गया ऐसा ना हो कि पुलिस को सूचना दे दे। इसलिए उनके मुंह बंद रखने के लिए उन्हें मेकडाल नंबर वन का बड़ा बोतल देकर जबरन पिला दिया।

 

बताते हैं कि दूसरी सुबह 11 अक्टूबर को रंजीत कुमार सिंह अपनी ड्यूटी करने पटना चले गए, लेकिन उनकी तबीयत वहीं से बिगड़ने लगी। उल्टी वगैरह होने लगा, जिससे वह अपने घर वापस आ गए। घर आने के बाद उनकी तबीयत और ज्यादा बिगड़ने लगी। घर के लोग उन्हें इलाज के लिए स्थानीय चिकित्सक के पास ले गए। फिर वहां से हाजीपुर इलाज के लिए ले जाया गया, लेकिन उनकी मृत्यु हो गई। मृत्यु के बाद घटना आग की तरह फैल गई। राजापाकर थानाध्यक्ष नौशाद आलम इसकी जानकारी मिलते ही आनन-फानन में दलबल के साथ पहुंच गए। वहीं डीएसपी महुआ, एलटीएस टीम, बीडीओ राजापाकर भी यहां पहुंच गए। इसके बाद शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल हाजीपुर भेज दिया।

 

मृतक के स्वजनों का कहना है कि बुलबुल झा एक बड़ा शराब तस्कर है। वह कई बार जेल भी जा चुका है। वह करीब 15 दिन पहले ही जेल से छूटकर बाहर आया है और बड़े पैमाने पर शराब बेचने का धंधा करता है। ग्रामीण बताते हैं कि शराब तस्करों का डान है। इस घटना में शिव कुमार सिंह का पुत्र अमन कुमार गंभीर रूप से बीमार है। उसका इलाज हाजीपुर के एक निजी नर्सिंग होम में चल रहा है।

 

इसकी जानकारी होने के बाद एसडीपीओ पूनम केसरी, एलटीएफ इंस्पेक्टर राजन पांडे, महुआ प्रभारी उदय सिंह, थानाध्यक्ष नौशाद आलम आदि ने पुलिस बल के साथ बुलबुल झा के घर एवं आसपास के बांसवारी, पोखर, बगीचा आदि की गहन तलाशी ली। तलाशी के दौरान बागीचा से प्लास्टिक की बोरियों में बड़ी संख्या में खाली बोतले तथा होम्योपैथिक दवा एस्पीडोस्पर्मा 30 की खाली बोतलें मिली है। बताया गया है इस दवा के सेवन से शरीर में ऊर्जा उत्पन्न होती। जिससे अनुमान लगाया जा रहा है कि बुलबुल जा इसी दवा से नकली शराब बनाकर बेचने का काम करता था। बुलबुल झा के धंधे तथा उसके डर से से गांव के लोग कुछ भी बताने से इन्कार कर रहे हैं।

 

पुलिस के अनुसार घटना के बाद से बुलबुल झा अपने घर से फरार है। पुलिस ने उसने घर की तलाशी भी ली है। पूछताछ के लिए उसकी पत्नी को हिरासत में लेकर थाना में रखा गया है। रणधीर कुमार सिंह की पत्नी का आरोप है कि उसके पति को बुलबुल झा एवं उसके दोनों बेटे ने नकली दारू पिलाकर मार दिया है। हालांकि घटना के संबंध में अभी तक कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है, लेकिन बड़ी संख्या में पुलिस और प्रशासनिक पदाधिकारी गांव में जमे हुए हैं। लगातार पूछताछ और छानबीन का दौर जारी है।