सासाराम   । अग्निपथ योजना को लेकर जिले में हुए उपद्रव, तोड़-फोड़ व आगजनी की घटना के मामले में अलग-अलग थाना में दस प्राथमिकी दर्ज की गई है और अभी तक पुलिस ने 79 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जबकि अन्य उपद्रवियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस द्वारा छापेमारी की जा रही है।

जिन उपद्रवियों को जेल भेजा जा चुका है, उनके माता-पिता उन्हें निर्दोष साबित करने के लिए कोर्ट से लेकर अधिकारियों तक चक्कर लगा रहे हैं। विभिन्न थाना प्राथमिकी में डेढ़ सौ नामजद के अलावा दो हजार से अधिक अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है। शिवसागर व कोचस में दो-दो, सासाराम नगर, नोखा तथा रेल थाना सासाराम में एक-एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसके अलावा बिक्रमगंज में भी एफआइआर दर्ज कर उपद्रवियों के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है।

गत 17 जून को उपद्रवियों द्वारा भाजपा कार्यालय में की गई तोड़-फोड़ मामले में शिवसागर थाने में दर्ज प्राथमिकी में अज्ञात के अलावा 11 नामजद को भी अभियुक्त बनाया गया है। जिन उपद्रवियों को नामजद अभियुक्त बनाया गया है, उसमें बम सिंह व बारूद सिंह का भी नाम शामिल है, जो शिवसागर थाना क्षेत्र के थनुआ गांव के रहने वाले बताए जाते हैं।

उपद्रवियों पर जानलेवा हमला तथा लोक उपक्रम की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने समेत एक दर्जन धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। एसपी आशीष भारती की माने तो अग्नि पथ योजना को लेकर हुए हिंसक उपद्रव के मामले में जिले के विभिन्न थाना में दस प्राथमिकी दर्ज कर अबतक 79 को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है, जिसमें बिक्रमगंज से दो कोचिंग संचालक भी शामिल हैं।

See also  जदयू ने घोषित किए अपने प्रत्याशी