एक सप्ताह में हुई कई छात्रों के साथ गम्भीर घटनाएं

लखीमपुर खीरी। जनपद में लगातार छात्र छात्राओं के साथ हो रही बडी घटनाओं के बाद उनके अभिभावकों की धडकनें बढने लगी हैं क्योंकि एक के बाद एक बडी वारदातें स्कूली छात्रों के साथ घटित हुई हैं जिससे अब अपने लाडलें को लेकर अभिभावक चिंतित बने हुए है। स्कूलों के बाहर घूम रहे अराजक तत्वों से स्कूली बच्चों और छात्राओं के साथ कई घटनाएं सामने आने के बाद अब अभिभावक अपने बच्चों को लेकर असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। शहर के स्कूलों में शिक्षा का माहौल खराब करने को लेकर कुछ बाहरी अराजकतत्व सक्रिय हो गए हैं जो आए दिन स्कूल गेट के आस पास घूमते हुए देखे जा सकते हैं इनसे न सिर्फ छात्र परेशान हैं बल्कि छात्राएं भी परेशान हैं। प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही एंटी रोमियो स्क्वॉयड निष्प्रभावी साबित हो रहा है।

घटना नं 1-
कोतवाली सदर क्षेत्र के अन्तर्गत एक बीएससी के छात्र की ईंटों से कूचकर हत्या कर दी गयी थी। जिसमें कुछ अज्ञात लोग बीएससी के छात्र को घर से बुलाकर ले गये थे जहां पर उसकी बेरहमी से हत्या कर दी थी। उसके सिर और चेहरे पर ईटों के प्रहार कर उनको कूच दिया था। मोहल्ला सुभाषनगर कांतीपुरम निवासी मेड़ई लाल के पुत्र विजय की निर्मम हत्या कर दी गयी थी। मेडई लाल के यहां उनकी रिश्तेदारी में कोई बीमार था, जिसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मेड़ई लाल और उनकी पत्नी अस्पताल में गए हुए थे। घर में उनका छोटा बेटा विजय राजपूत (25) और उसकी दो बहनें थी।मंगलवार को मेड़ई लाल के घर पर कुछ लोग आए और विजय को घर से बुला ले गए थे। इसके बाद विजय घर वापस नहीं लौटा। सुबह शहर के बाहर पण्डित दीनदयाल उपाध्याय सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज के पीछे भट्टे की मिट्टी के डलाव के बीच में एक युवक का खून से लथपथ शव पड़ा देखा गया।

घटना नं 2-
कोतवाली सदर क्षेत्र के अन्तर्गत एक स्कूल के जूनियर छात्र को सीनियर छात्र ने बाहरी लडकों के साथ मिलकर जमकर पीट दिया था जिससे जूनियर छात्र को काफी चोट लग गयी थी। घटना के बाद दोनो छात्रों के परिजनों ने आपस में समझौता कर लिया था। शहर के एक इण्टर कालेज के सीनियर कक्षा के कुछ छात्र स्कूल से बाहर घूम रहे थे जिसकी शिकायत जूनियर कक्षा के एक छात्र ने की थी। अपनी शिकायत से बौखलाए छात्र ने स्कूल की छूट्टी के बाद रास्ते में बाहर से लडके बुलाकर शिकायत करने वाले छात्र की जमकर पिटाई कर दी थी। जिससे उस छात्र को काफी चोट लग गयी थी तथा आरोपित छात्र ने पिडित छात्र को धमकी देते हुए कहीं शिकायत न करने की धमकी भी दी थी। पीड़ित छात्र ने घर पहुँच कर घटना की पूरी जानकारी अपने परिजनों को दी जिस पर पीड़ित छात्र के पिता ने उक्त घटना की जानकारी विद्यालय के प्रबन्ध तन्त्र से की थी। जूनियर छात्र ने अपने ही स्कूल के सीनियर छात्र की शिकायत की थी जिस पर सीनियर छात्र ने स्कूल से छूट्टी के बाद घर जा रहे छात्र से मारपीट की तथा स्कूल के बाहर अन्य लडकों को बुलाकर जूनियर छात्र को बेरहमी से मारने लगे थे जिस पर स्थानीय लोगों ने पीड़ित छात्र को बचाया था हालांकि घटना की कोई तहरीर कोतवाली में नहीं दी गयी थी।

घटना नं-3
गोला गोकरननाथ में गुरुवार को विद्या मंदिर के 11वीं कक्षा के छात्र की बाहरी युवकों ने पिटाई कर दी थी। पीड़ित के द्वारा तहरीर पुलिस को दी गई थी। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है। स्कूलों के बाहर बाहरी छात्र इधर उधर घूमते हैं। उनका केवल एक ही मकसद है बच्चों की पढ़ाई को प्रभावित करना तथा साथ ही साथ कुछ युवकों की गलत नजर भी रहती है। जिस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। गुरुवार को नौवाखेड़ा निवासी अभिषेक वर्मा मोहल्ला मथुरानगर से स्कूल जा रहा था कि कई युवकों ने उसे घेरकर हमला बोल दिया था जिससे वह गम्भीर रूप से घायल हो गया था। अभिषेक अपने आप को बचाने के लिए सिनेमा रोड पर भागा लेकिन युवकों ने उसे सिनेमा रोड पर भी जमकर पीट दिया था। चीख सुनकर तमाम लोग जमा हो गए जिससे हमलावर भाग निकले। छात्र ने पुलिस चौकी पहुंचकर सूचना दी और एक युवक का नाम विवेक वर्मा बताया था। घटना में शामिल विवेक वर्मा को पुलिस ने पकड लिया है और उससे पूछतांछ की जा रही है। अभिषेक का कहना है कि उसे खुद नहीं पता कि इन बाहरी छात्रों ने उस पर हमला क्यों किया।
जनपद में छात्र छात्राओं के साथ घटित हो रही ऐसी वारदातों और हालातों को देखते हुए अभिभावक भी चिंतित बने हुए हैं जबकि इन बडी घटनाओं से न तो स्कूल प्रशासन सुरक्षा का इन्तजाम कर रहे हैं और न ही जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन कोई प्रभावी कार्रवाई करने का नियम बना रही है।जनपद में छात्र छात्राओं के साथ घटित हो रही ऐसी वारदातों और हालातों को देखते हुए अभिभावक भी चिंतित बने हुए हैं जबकि इन बडी घटनाओं से न तो स्कूल प्रशासन सुरक्षा का इन्तजाम कर रहे हैं और न ही जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन कोई प्रभावी कार्रवाई करने का नियम बना रही है।

बोले अभिभावक पुलिस प्रशासन और स्कूल करवाएं अराजकतत्वों की निगरानी
इस सम्बन्ध में जब स्कूली बच्चों के अभिभावकों से बातचीत की गयी तो उनका कहना है कि स्कूलों के बाहर अराजक तत्वों को अक्सर देखा जाता यह लोग गलत प्रवृत्ति के होते हैं जो बच्चों को पढाई करने से रोंकते है तथा गलत दिशा में ले जाने का प्रयास करते हैं ऐसे प्रवृत्ति के लोगों से दूर रहना चाहिए। अभिभावक सोनू सिंह सैंगर ने कहा कि जिले में स्कूली बच्चों के साथ जो बडी घटनाएं सामने आयी हैं वह दुर्भाग्यपूर्ण हैं अपने बच्चों की निगरानी करना अब हम सबका दायित्व है। अभिभावक बलवन्त वर्मा ने कहा कि अभी तीन चार दिनों में जिस प्रकार से शहर के स्कूली छात्रों के साथ मारपीट हत्या जैसी बडी घटनाएं घटित हुई है इससे अभिभावक चिंतित हैं पुलिस प्रशासन के साथ साथ अभिभावक भी अपने बच्चों पर नजर रखें।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com