राकेश अस्थाना की सीबीआई जांच रहेगी जारी, कोर्ट ने खारिज की अपील

CBI बनाम CBI के जंग में नया मोड़ आ चुका है। जहां एक तरफ आलोक वर्मा का वापस बहाली के बाद फायद बिग्रेड की डीजी बनाया गया। वहीं खफा होकर आलोक वर्मा ने पद से इस्तीफा दे दिया है। वहीं सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ भष्टाचार के मामले में दर्ज एफआईआर पर सीबीआई जांच जारी रहेगी। वहीं सीबीआई के डीएसपी देवेंद्र कुमार के खिलाफ भी जांच जारी रहेगी। बता दें कि दोनों ने ही अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में दर्ज एफआईआर को रद्द करने के लिए हाई कोर्ट से अपील की थी।

राकेश अस्थाना और देवेंद्र कुमार पर हैदराबाद के व्यापारी सतीश बाबू सना से रिश्वत लेकर मामले को दबाने के आरोप लगे हैं। जिसके बाद दोनों के खिलाफ सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की है। डीसीपी देवेंद्र कुमार को सीबीआई ने गिरफ्तार भी किया लेकिन बाद में उन्हें निचली अदालत से जमानत मिल गई। इसके बाद दोनों ने ही हाईकोर्ट से अपील की थी जिसे बीते 20 दिसम्बर को हाई कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था।

वहीं अंतरिम सीबीआई निदेशक एम नागेश्वर राव ने सीबीआई के प्रमुख के रूप में अपने दो दिन के कार्यकाल में आलोक वर्मा द्वारा किए गए तबादलों संबंधी फैसले को रद्द कर दिया और अधिकारियों की आठ जनवरी वाली स्थिति बहाल कर दी। उच्चतम न्यायालय ने वर्मा को जबरन छुट्टी पर भेजे जाने के आदेश को मंगलवार को रद्द कर दिया था। इसके बाद वर्मा ने राव द्वारा किए गए सभी तबादले रद्द कर दिए थे। उन्होंने विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के खिलाफ मामले की जांच के लिए एक नया जांच अधिकारी भी नियुक्त किया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, न्यायमूर्ति ए के सीकरी और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडगे की सदस्यता वाली उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने वर्मा का सीबीआई से बृहस्पतिवार को तबादला कर दिया था। सरकार ने अतिरिक्त निदेशक नागेश्वर राव को एजेंसी का प्रभार सौंपा।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com