दस डिसमिल जमीन के विवाद में युवक को बंधक बना पीटा

आरा(डिम्पल राय)। आम लोगो की सुरक्षा मे तैनात पुलिसकर्मी जब आपकी फरियाद ना सुने और जब खुन ही खुन के प्यासे हो जाए तो फिर पीडित अपनी सुरक्षा की गुहार किससे लगाए। जी हा ऐसा हम नही कह रहे बल्कि ये आरोप पीरो थाना क्षेत्र के जितौरा बाजार स्थित पसौर टोला निवासी सुदामा सिंह के 25 वर्षीय पुत्र पीडित रामकुमार लगा रहे है जो एक साल उत्तर प्रदेश के अमरोहा में चालक की नौकरी कर पिछ्ले लगभग 5 सालो से पट्टीदारो के साथ चल रहे 10 डिसमिल जमीन के विवाद को सुलझाने अपने गाव लौट रहा था जिसने आरा पहुच कर अपनी माँ को फोन कर कुछ देर मे गाव पहुचने की बात बताई लेकिन पहले से घात लगाए उसके पट्टीदारो द्वारा कुछ लोगो को साथ मिलाकर उसको गाव के बाहर से ही अगवा कर लिया गया। जब परिजन बेटे के लापता होने की सूचना थाने को देने पहुचे तो वहां मौजुद पुलिसकर्मीयो ने आवेदन लेने से मना कर भगा दिया। जैसा की आरोप पीडित रामकुमार लगा रहा है। आगे पीडित रामकुमार ने बताया की उसे अनजान जगह ले जाकर बंधक बनाया गया फिर बिजली की मोटे तार, रॉड एवं बेल्ट से बुरी तरह मारा-पीटा गया और 8 लाख रुपया नगद एवं जमीन छोड़ने की मांग रखी गई। हालांकि अहले सुबह मौका देख कर बंधक बना रामकुमार बड़ी मुश्किल से किसी तरह बंधन से आजाद होकर वहां से भाग निकला और सीधे पुलिस कप्तान आदित्य कुमार से मिलने जा पहुंचा हालांकि सुबह का समय होने की वजह से पीड़ित की मुलाकात एसपी आदित्य कुमार से नहीं हो सकी जिसके बाद आवेदन लिखने के लिए वकील के पास पहुंचा जहां वकील ने उसे पहले सदर अस्पताल में जाकर इलाज कराने की सलाह दी गई जिसके बाद पीड़ित इलाज के लिए सदर अस्पताल पहुंचा।

=>