हेमराज ने कबूला कि वह तांत्रिक है और तंत्र-मंत्र के खातिर उसने बच्ची की बलि दी थी

फतेहपुर। होलिका दहन की पूर्व संध्या पर खेलते हुए गायब हुई मासूम बच्ची की हत्या की गुत्थी को पुलिस ने सुलझाते हुए तांत्रिक सहित दो हत्यारों को आला कतल सहित गिरफ्तार कर लिया है। हत्या के पीछे पकड़े गये क्रूर हत्यारों ने तंत्र-मंत्र के खातिर बलि चढ़ाये जाने की बात स्वीकार की है। पुलिस ने पकड़े गये आरोपितों को जेल भेज दिया है। पुलिस अधीक्षक कैलाश सिंह ने गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम की सराहना की है।
बताते चलें कि बिन्दकी कोतवाली क्षेत्र के नंदापुर गांव निवासी रामचन्द्र की 02 वर्षीय मासूम बच्ची कंचन 20 मार्च की शाम को अचानक लापता हो गयी थी। परिजनों ने काफी खोजबीन की, लेकिन उसका सुराग नही लगा था। अगले दिन 21 मार्च को पिता की तहरीर पर पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर ली थी। पुलिस व परिवार के लोग बच्ची की बरामदगी के लिए प्रयास कर थे। तभी 25 मार्च को खजुहा कस्बे के एक पेट्रोल पम्प के निकट नाले में बच्ची का शव क्षत-विक्षत हालत में मिला था। जिसकी शिनाख्त बच्ची के पिता ने अपनी बेटी कंचन के रूप में की थी। शव बरामद होने पर पुलिस ने गुमशुदगी को हत्या एवं सबूत नष्ट करने की धाराओ में तरमीम कर अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था।
पुलिस अधीक्षक कैलाश सिंह ने बताया कि मामले को गंभीरता से लेते हुए इलाका पुलिस को दिशा-निर्देश दिये गये थे। उन्होंने बताया कि प्रभारी निरीक्षक तेज बहादुर सिंह, वरिष्ठ उपनिरीक्षक केशव वर्मा ने हमराही पुलिस कर्मियों के साथ घटना का खुलासा करते हुए हेमराज पुत्र गुलाब निवासी सैंबसी व ननकू उर्फ शिवप्रकाश पुत्र मन्नी रैदास निवासी सेलावन को गिरफ्तार कर लिया। हेमराज की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त आला कतल को भी बरामद कर लिया है।
एसपी ने बताया कि पूंछतांछ के दौरान हेमराज ने बताया कि वह तांत्रिक है और तंत्र-मंत्र के खातिर उसने बच्ची की बलि दी थी। उन्होंने बताया कि पुलिस ने पकड़े गये आरोपितो को जेल भेज दिया है।

=>