साध्वी प्रज्ञा के बयान से भाजपा ने किया किनारा

– बताया व्यक्तिगत बयान
– शहीद हेमंत करकरे के खिलाफ विवादित बयान देने का मामला
मुंबई। भोपाल संसदीय सीट से उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के उस बयान से भाजपा ने पल्ला झाड़ लिया है, जिसमें प्रज्ञा ने मुंबई आतंकवादी हमले में शहीद हुए एटीएस चीफ हेमंत करकरे पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता माधव भंडारी ने कहा है, शहीद करकरे के बारे में प्रज्ञा सिंह का बयान व्यक्तिगत है और भाजपा उस बयान से सहमत नहीं है।

पार्टी प्रदेश मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए भंडारी ने कहा कि हमारा मानना है मुंबई आतंकी हमलें में मारे गए पुलिस अधिकारी-कर्मचारी और नागरिक सभी शहीद हैं और शहीदों के प्रति हमारा सम्मान है। भंडारी ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर को जब गिरफ्तार किया गया था, तब कांग्रेस की सरकार थी और प्रज्ञा के साथ बुरा बर्ताव किया गया। दरअसल मालेगांव बम धमाके की आरोपी रहीं साध्वी प्रज्ञा को भाजपा ने भोपाल सीट से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के खिलाफ उतारा है।

मीडिया से बातचीत में मुंबई आतंकी हमले का जिक्र करते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि उन्होंने करकरे से कहा था कि तुम्हारा सर्वनाश होगा। कांग्रेस और एनसीपी ने प्रज्ञा के इस विवादित बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। कांग्रेस-एनसीपी नेताओं का कहना है कि प्रज्ञा ने न केवल एक ईमानदार पुलिस अधिकारी की शहादत का, बल्कि राज्य और देश का भी अपमान किया है। कुछ सामाजिक संगठनों ने भी प्रज्ञा के बयान पर कड़ी नाराजगी जताई है। मामले को तूल पकड़ता देख भाजपा ने प्रज्ञा का निजी बयान बताते हुए पल्ला झाड़ लिया है।

इस दौरान भंडारी ने कांग्रेस को शेठजी और भटजी की पार्टी बताई। भंडारी के मुताबिक कांग्रेस भाजपा को शेठजी और भटजी की पार्टी बताकर आलोचना करती रही है। भाजपा को अंबानी द्वारा चलाए जाने का आरोप लगाती रही। जिस पार्टी के अध्यक्ष को जनेऊधारी ब्राह्मण बताया जाता है और उद्योगपति मुकेश अंबानी कांग्रेस के उम्मीदवार को खुले आम समर्थन दे रहे हैं। एेसे में साबित हो गया है कि कांग्रेस शेठजी और भटजी की पार्टी है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राज्य में छह जनसभाएं, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की चार और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की 43 जनसभाएं हुईं हैं। मुख्यमंत्री की छोटे-छोटे शहरों में जनसभाएं हुईं हैं। भाजपा-शिवसेना गठबंधन को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है।

कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में शामिल हुई प्रियंका चतुर्वेदी के मसले पर भंडारी ने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण है कांग्रेस में दो महिलाओं का नेतृत्व होते हुए भी एक महिला को पार्टी छोड़नी पड़ी। इस अवसर पर पार्टी प्रदेश प्रवक्ता केशव उपाध्याये, मधु चव्हाण और विश्वास पाठक मौजूद थे।

=>
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com