बिहार

विधि -व्यवस्था के सवालों के बीच बिहार पुलिस की हुई जमकर जयकार , लगें ज़िंदाबाद के नारे

 रंगदारी की घटनाएं से त्रस्त थे बिक्रम बाजार के कारोबारी ,संतोष की हत्या के बाद दहशत का था माहौल

>> एसएसपी गरिमा मलिक ने बाप जी गैंग के खात्मे के लिए डीएसपी मनोज कुमार पांडे के नेतृत्व में गठित की थी एसआईटी

>> घटना में शामिल बदमाशों को एसआईटी ने अपराध की योजना बनाते हथियार संग किया गिरफ्तार

>> बिक्रम से पहले पालीगंज में भी पटना पुलिस की हुई थी जयकार

रवीश कुमार मणि
पटना ( अ सं ) । सत्ता -शासन किसी का हो, विधि -व्यवस्था को लेकर पुलिस पर अक्सर सवाल खड़ा होते रहा हैं । कुछ एक ही ऐसे मामले सामने आते हैं जब पुलिस की कार्रवाई पर आम जनता जिंदाबाद की नारा लगाती हैं और जयकार करती हैं । बीते गुरुवार को स्वतंत्रता सेनानियों की पावन धरती बिक्रम में बिहार पुलिस ,एसएसपी गरिमा मलिक ,डीएसपी मनोज पांडे जिंदाबाद की नारे से गूंज उठा। सैकड़ों कारोबारियों ने डीएसपी मनोज कुमार पांडे ,थाना प्रभारी चंदन कुमार ,दुल्हिनबाजार थाना प्रभारी सहित पुलिसकर्मियों को माला पहनाकर अभिनंदन किया ।  इससे पहले पालीगंज में एक कारोबारी की हत्या के बाद डीएसपी मनोज कुमार पांडे के नेतृत्व में अपराधियों के हुई गिरफ्तारी के बाद बिहार पुलिस ,पटना पुलिस ,तत्कालीन एसएसपी मनु महाराज ,व डीएसपी मनोज कुमार पांडे की जयकार एवं जिंदाबाद की नारा लगा था। बिक्रम में कारोबारियों को संबोधन करते हुये डीएसपी श्री पांडे ने कहां की भयमुक्त होकर कारोबार करें ,पुलिस आपकी सुरक्षा में तत्पर हैं ,कानून से बड़ा कोई नहीं होता ।पुलिस आपके साथ हैं और आप पुरी तरह से सुरक्षित हैं । वहीं नौजवानों से अपील किया की किसी के बहकावें, भटकाव में नहीं आएं ,अपराध का रास्ता पुरी बर्बादी का होता हैं ।शिक्षा का मार्ग ही कामयाबी की मंजिल हैं ,परिश्रम और लग्न से कुछ भी मुश्किल नहीं । मालूम हो की डीएसपी मनोज कुमार पांडे ,पुलिस सेवा के साथ ही समय निकालकर पालीगंज में छात्रों को पढ़ाने का काम करते हैं।

रंगदारी को लेकर मचा रखा था उत्पात

20 साल पहले बिक्रम में रंगदारी को लेकर कई व्यवसायी हत्याएं हुई थी। एक माह पहले व्यवसायी संतोष कुमार की हत्या ने पुराने दिन याद दिला दिया था और इसको लेकर लोग भयभीत थे।यह अलग बात हैं की डीएसपी मनोज कुमार पांडे ने बीमारी अवस्था में भी सक्रियता से छापेमारी कर घटना में शामिल मुख्य अपराधी गोलू कुमार को महज 6 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था । लेकिन रंगदारी की मांग थमने का नाम नहीं ले रहा था। बड़े -छोटे सभी कारोबारियों से लाखों के साथ हजार रूपये तक की मांग की जा रही थी।

डीएसपी के नेतृत्व में गठित एसआईटी ने किया खात्मा

रंगदारी से परेशान कारोबारी एसएसपी गरिमा मलिक से मिलकर फरियाद लगाएं थे। इसके बाद डीएसपी मनोज कुमार पांडे के नेतृत्व में एसआईटी गठित की गयी । डीएसपी के नेतृत्व में एसआईटी ने छापेमारी कर बाप जी गैंग से जुड़े 5 लोगों को अपराध की योजना बनाते हथियार सहित गिरफ्तार कर लिया । यह देखा जाएं तो एक प्रकार से बाप जी गैंग का बिक्रम, नौबतपुर, बिहटा में खात्मा कर दिया हैं ।जो एकाद बचे हैं वह पटना जिला ही छोड़कर भाग गये हैं ।
loading...
Loading...

Related Articles

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com