Main Sliderअन्य राज्य

कोरोना: बहन को लेने 1000 किमी बाइक चलाई भाई ने, बहन ने कहा ऐसा भाई सब को मिले

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने दुनिया में अफरा-तफरी मचा दी है। हजारों लोग इस वायरस से मर चुके हैं। लाखों इसकी चपेट में हैं। लगभग पूरी दुनिया लॉकडाउन है। सब घरों में कैद हैं। ऐसे में एक भाई की कहानी चर्चा में है, जो बहन को लेने 1000 किलोमीटर बाइक चला कर गया।

रिपोर्ट के मुताबिक, यह मामला राजस्थान के जयपुर का है। यहां एक महिला अपने 4 वर्षीय बच्चे को लेकर गलत ट्रेन में चढ़ गई थी। उसे पटना जाना था। लेकिन जयपुर पहुंच गई। हालांकि, महिला ने शहर में रहने वाले रिश्तेदारों से मदद मांगी, पर कोरोना के डर से उन्होंने हाथ खड़े कर दिए। ऐसे में जब परिवार को इसकी खबर हुई, तो महिला का भाई उसे लेने बाइक से चल दिया। जानकारी के मुताबिक, अस्मिता को नागपुर रेलवे स्टेशन से बागमति एक्सप्रेस में बैठना था। लेकिन गलती से वो मैसूर-जयपुर एक्सप्रेस में बैठ गईं।

आरपीएफ ने की हर मुमकिन मदद
जब उन्हें इस गलती का एहसास हुआ, तब तक वो जयपुर स्टेशन पहुंच चुकी थीं। स्टेशन पर उतरकर उन्होंने सुरक्षा कर्मियों को पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया और मदद की गुहार लगाई। आरपीएफ ने उनकी पूरी सहायता की। उन्हें रेस्ट रूम में ठहराया और खाने का भी इंतजाम किया। इस दौरान अस्मिता ने जयपुर के आसपास रहने वाले रिश्तेदारों से मदद मांगी। लेकिन उन्होंने मदद से इनकार कर दिया।

भाई बाइक से निकला बहन को लेने जब कोई रास्ता नहीं बचा, तो आरपीएफ ने महिला के भाई को इसकी जानकारी दी। कोरोना के कारण सभी ट्रेनें और बसें रद्द हैं। ऐसे में भाई ने तय किया कि वो अपनी बाइक से बहन को लेने जाएगा। वह नागपुर से करीब 1000 किलोमीटर बाइक चलाकर अपनी बहन के पास जयपुर पहुंचा और अस्मिता को घर लाया। बता दें, यह सफर तय करने में 28-30 घंटे लगते हैं। रास्ते में महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश व राजस्थान के बॉर्डर आते हैं।

loading...
Loading...

Related Articles