रायबरेली

खेत में बकरी चराने को लेकर हुआ व‍िवाद-मारपीट, तनाव को देख गांव में पीएसी तैनात

रायबरेली। गुरूबक्शगंज थाना क्षेत्र के डिहुरा मजरे पोरई गांंव में बुधवार की शाम खेत में बकरी जाने को लेकर दो घरों के लोगों के बीच आपस में विवाद हो गया। देखते ही देखते दोनों पक्षों की तरफ से लोग इकट्ठे होते चले गये और मामूली झगड़ा सांंप्रदायिक फसाद में बदल गया। दोनों पक्षों की ओर से ईंट पत्थर चलाये गये और जमकर उत्पात मचाया गया। सूचना पर पहुंची गुरूबक्शगंज थाना पुलिस जब हालात पर काबू ना पा सकी तो पीएसी बल को भी बुलाना पड़ा। पीएसी बल के गांंव में तैनात होने के बाद देर रात हालात पर काबू पाया जा सका। इस फसाद में दोनों पक्षों के करीब एक दर्जन लोग घायल हुए, जिसमें से तीन को गम्भीर हालत में जतुआ टप्पा सीएचसी से जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया था।

डिहुरा मजरे पोरई गांंव निवासी बद्रीविशाल पुत्र सूर्यबली शाहू और रिजवान व नवसाद पुत्रगण मो० इकलाख के बीच खेत में बकरी जाने को लेकर वाद -विवाद शुरू हो गया। कुछ ही देर में दोनों पक्षों के समर्थक भी एकत्रित हो गये और मामूली विवाद सांंप्रदायिक फसाद में बदल गया।दोनों पक्षों की ओर से ईंट पत्थर चलाये गये। सूचना पर पहुंची गुरूबक्शगंज थाना पुलिस जब हालात पर काबू ना पा सकी तो पीएसी बल को भी बुलाना पड़ा। पीएसी बल के गांंव में तैनात होने के बाद देर रात हालात पर काबू पाया जा सका। इस फसाद में नूरमोहम्मद, फकीरे, मुजाहिद खान और असलम तथा धर्मराज, गोकरन और रामराज बुरी तरह घायल हो गये। जिनमें से नूर मोहम्मद, मुजाहिद खान और गोकरन की गम्भीर हालत को देखते हुए जतुआ टप्पा सीएचसी से जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। थानाध्यक्ष कुंंवर बहादुर सिंह ने बताया कि फसादियों को उग्र होता देख डेढ़ सेक्टर पीएसी बल बुलाना पड़ा। गांंव में पीएसी बल तैनात है, हालात सामान्य है। थानाध्यक्ष ने बताया कि करीब एक दर्जन फसादियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। पूछताछ की जा रही है, जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी। 

 

loading...
Loading...

Related Articles