कानपुर

पुलिस को धता बता सीएम से मिलने पैदल निकले संजीत के स्वजन,नारेबाजी, सीबीआई जांच की हुई थी सिफारिश

कानपुर। पैथालॉजी कर्मी संजीत अपहरण.हत्याकांड में स्वजनों का धैर्य जवाब दे गया और पुलिस को धता बताकर सीएम से न्याय की मांग करने के लिए पैदल निकल पड़े। सूचना पर पहुंची पुलिस ने रोकने का प्रयास किया तो स्वजनों के साथ मौजूद भीड़ नारेबाजी करने लगी।
बर्रा निवासी पैथालॉजी कर्मी संजीत यादव अपहरण कांड के बाद पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था। आराेपितों ने संजीत की हत्या करके शव पांडु नदी में फेंकने की जानकारी दी थी। पुलिस आज तक न तो शव बरामद कर सकी और न ही उसक अन्य सामान। स्वजनों द्वारा पुलिस की भूमिका पर संदेह जताने पर शासन ने सीबीआई जांच की सिफरिश कर दी है। इससे पुलिस की जांच बंद होने से स्वजनों की नाराजगी बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को न्याय की मांग को लेकर संजीत के स्वजन मुख्यमंत्री आवास जाने के लिए पुलिस को चकमा देकर घर से निकल पड़े।
संजीत के स्वजन बर्रा गांव पहुंचे थे कि जनता नगर चौकी का फोर्स पहुंच गया। पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो स्वजन के साथ मौजूद लोग हाथ में तख्तियां लेकर संजीत के हत्यारों को फांसी दो के नारे लगाने लगे। स्वजन बाईपास से लखनऊ के रास्ते पर पैदल आगे बढ़ते रहे। बर्रा बाईपास चौराहे पर सीओ गोविंद नगर ने रोकने का प्रयास किया लेकिन वो नहीं माने। इस बीच नौबस्ता समेत कई अन्य थाने का फोर्स बुलाया गया।
इसी बीच,वहां से गुजर रहे ट्रक के आगे रुचि और उसकी मां कुसमा लेट गईं। वहीं, संजीत के पिता एसपी साउथ दीपक भूकर के सामने गमछे से अपना गला कसने का प्रयास किया। किसी तरह पुलिस ने ट्रक को रुकवाया और दोनों ओर से बेरीकेडिंग लगाकर वाहन खड़े करवा दिए। इसके बाद हाईवे पर लंबा जाम लगा गया।
loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button