Main Sliderराष्ट्रीय

भारत-चीन के बीच पूर्व लद्दाख में एलएसी पर हालात बेहद तनावपूर्ण, पेंगोंग में 200 राउंड फायर

नई दिल्ली। भारत-चीन के बीच पूर्व लद्दाख में एलएसी पर तनाव हर दिन बढ़ता जा रहा है। इस तनावपूर्ण हालात में भी दोनों देशों के बीच बातचीत का दौर जारी है। इस बीच एलएसी पर फायरिंग को लेकर नया खुलासा हुआ है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, रूस के मॉस्को में 10 सितंबर को विदेश मंत्री एस. जयंशकर और उनके चीनी समकक्ष वांग यी की मुलाकात से पहले पेंगोंग झील के उत्तरी किनारे के नजदीक दोनों सेनाओं में गोलीबारी हुई थी। एक अफसर के मुताबिक, जिस जगह फिंगर-3 और फिंगर-4 का तल मिलता है, वहां दोनों पक्षों में 100-200 राउंड फायर किए गए।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मामले की जानकारी रखने वाले एक अधिकारी ने बताया कि फायरिंग की घटनाएं उस दौरान हुईं, जब दोनों देशों की सेनाएं फिंगर इलाके में पकड़ मजबूत करने के लिए गश्त कर रही थीं। अब तक इस घटना के बारे में न तो चीन और न ही भारत की तरफ से कोई आधिकारिक बयान दिया गया है। इससे पहले चुशूल सेक्टर में हुई फायरिंग की घटना पर दोनों देशों में तनातनी हुई थी। अधिकारी का कहना है कि ताजा फायरिंग चुशूल में हुई फायरिंग से भी ज्यादा भीषण थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारी ने बताया कि भारत और चीनी सेना के बीच एलएसी पर एक महीने में तीन बार फायरिंग की घटना हो चुकी है। अब तक सिर्फ चुशूल सेक्टर में हुई फायरिंग को लेकर ही दोनों देशों की ओर से आधिकारिक बयान आए हैं। अगस्त में मुकपरी में भी फायरिंग की घटना हुई थी, लेकिन उस बारे में कोई बयान नहीं आया। अब पेंगोंग के उत्तरी किनारे पर 100-200 राउंड फायर हुए हैं, मगर अब तक दोनों देशों में किसी ने भी कोई बयान नहीं दिया है।

loading...
Loading...

Related Articles

Back to top button