Monday, March 8, 2021 at 8:10 AM

औरंगजेब ने मंदिर बनवाए पढ़ाया जा रहा मुगलों का ‘आधारहीन’ इतिहास? विभाग के पास नहीं जवाब

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर आज औरंगजेब और एनसीईआरटी ट्रेंड हो रहे हैं. इन पर काफी चर्चा हो रही है. जानते हैं क्यों? क्योंकिएनसीईआरटीमें औरंगजेब प्रेमी गैंग का खुलासा एक आरटीआई से हुआ है. एनसीईआरटी के ‘डिजाइनर इतिहासकारों’ ने कक्षा 12वीं की इतिहास की किताब में सांप्रदायिकता के सुल्तान औरंगजेब को सेक्युलर बताया है. एनसीईआरटीकी 12वीं की किताब में इतिहास से मजाक करते हुए लिखा गया है कि औरंगजेब ने मंदिर बनवाए.
एनसीईआरटीकी किताब में औरंगजेब और शाहजहां जैसे मुगल शासकों का महिमामंडन करते हुए पढ़ाया जा रहा है कि औरंगजेब और शाहजहां ने मंदिरों का निर्माण कराया. 12वीं के इतिहास की किताब इंडियन हिस्ट्री पार्ट-टू के पेज 234 में लिखा गया है कि युद्ध के दौरान मंदिरों को ढहा दिया गया था बाद में शाहजहां और औरंगजेब ने इन मंदिरों की मरम्मत के लिए ग्रांट जारी किया था.
एनसीईआरटी की किताब में ये भी साफ-साफ नहीं लिखा है कि भारत के मंदिर औरंगजेब के आदेश पर तोड़े गए. लेकिन ये जरूर लिखा गया है कि औरंगजेब और शाहजहां ने मंदिरों की मरम्मत के लिए ग्रांट जारी की. आजाद भारत के इतिहास के इस झूठ का खुलासा एकआरटीआई से हुआ था.
आरटीआई में पूछा गया था कि थीम ऑफ इंडियन हिस्ट्री पार्ट 2 के पेज नंबर 234 के दूसरे पैराग्राफ में एनसीईआरटीने किस सोर्स से ये लिखा है कि जब युद्ध के दौरान मंदिर तोड़े गए तो शाहजहां और औरंगजेब के शासन में पुनर्निर्माण के लिए आर्थिक सहायता दी गई? आरटीआई में ये भी पूछा गया कि एनसीईआरटीबताए कि औरंगजेब और शाहजहां ने कितने मंदिर दोबारा बनवाए? जवाब में एनसीईआरटी ने कहा कि उसके पास इसकी जानकारी नहीं है.

तो सवाल ये है किएनसीईआरटी के वो डिजाइनर इतिहासकार कौन हैं, जिन्होंने आजाद भारत में सांप्रदायिकता के सुल्तान को सेक्युलर बनाकर पेश किया? एनसीईआरटीक्यों छात्रों से औरंगजेब को लेकर झूठ बोलती रही?
एनसीईआरटी ने जिस आरटीआई के जवाब में अपनी भूल मानी है, वो पिछले साल 18 नवंबर का है. तो अब सोशल मीडिया पर औरंगजेब और एनसीईआरटीक्यों ट्रेंड हो रहे हैं? इसका जवाब ये है, कि इतिहास की भूल पर मंगलवार को राज्यसभा सांसद विनय सहस्त्रबुद्धे की अध्यक्षता में एक मीटिंग हुई थी. जिसमें इतिहास की सभी भूलें सुधारने की मांग की

Loading...