Main Sliderलखनऊ

गेहूं क्रय केंद्र के आसपास बिचौलियों ने बना रखे हैं अपने अड्डे : अखिलेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार में किसानों की जिंदगी तबाह है। 50 प्रतिशत से ज्यादा क्रय केंद्रां पर गेहूं की खरीद नहीं हो रही है तथा किसानों को वहां से लौटाया जा रहा है। जिन क्रय केंद्रों पर खरीद हो रही है वहां भी आसपास बिचैलियों ने अपने अड््डे बना रखे है जिनपर किसानों का खुलकर शोषण किया जा रहा है। क्रय केंद्र प्रभारियों से सांठगांठ कर बिचौलिये औने पौने दाम पर गेहूं खरीद कर क्रय केंद्रों को बेचकर मुनाफा कमा रहे है।

अखिलेश ने आर्पीएन से बातचीत में कहा कि गेहूं क्रय केंद्रो पर किसानों से 60 से 80 रूपये तक खर्च के नाम पर पल्लेदारी, उतराई आदि के नाम पर वसूले जा रहे है। क्रय केंद प्रभारी बिचौलिये के साथ मिलकर किसानों का समर्थन मूल्य 1735 की जगह 1500 से कम रूपए में गेहूं खरीदकर किसानों का शोषण कर रहें है।

अखिलेश ने कहा कि क्रय केंद्रों पर किसानों के लिए न पीने का पानी की व्यवस्था है और नहीं तपती धूप से बचाव के लिए छाया है। गरीब कमजोर किसान गेहूं लेकर क्रय केंद्रो पर जाता है तो बताया जाता है कि बोरे नहीं है। किसान को मजबूर होकर बाजार में बिचैलियों को अपना गेहूं बेचना पड़ जाता है। कई जनपदों में तो क्रय केंद्र पहले ही बंद हो गए है।
अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री स्वयं स्थिति से पूरी तरह अनजान बने हुए हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को जब कोई काम करना ही नहीं है तो गांवों मे चौपाल के बहाने किसानों को गुमराह करने का उन्होंने एक तरीका ढूंढ निकाला है।

लेकिन किसानों की दिलचस्पी किसी गांव में एक रात सोने वाली सरकार में नहीं है उन्हे सतत जागरूक सरकार चाहिए जो कृषि की समस्याओं का समाधान कर सके। उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार के चार वर्ष और राज्य की भाजपा सरकार के एक वर्ष पर किसानों को धोखा ही हाथ लगा है। क्या यही किसानों की 2022 तक आय दुगुना करने का मंत्र है?

loading...
=>

Related Articles