Friday, December 3, 2021 at 5:36 AM

प्रदूषण फैलाने वाली इकाइयों पर दो करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना

साहिबाबाद । प्रशासन की तरफ से अभी तक प्रदूषण फैलाने वाली इकाइयों पर दो करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना लगाया गया है, लेकिन जुर्माने की वसूली नहीं की गई है। ऐसे में प्रदूषण फैला रही फैक्ट्रियों पर कार्रवाई का असर नहीं दिख रहा है। वायु प्रदूषण मामले में गाजियाबाद जिला रेड जोन में बना हुआ है। बृहस्पतिवार को एक्यूआइ सुबह दस बजे 362 और शाम छह बजे 355 दर्ज किया गया। पिछले दो दिनों से हवा धीमी रफ्तार से चल रही है।

बृहस्पतिवार को वायुमंडल में धुंध छाई रही। सांस के रोगियों की फिर से परेशानी बढ़ गई। लोगों ने आंखों में जलन महसूस की। इंसान ही नहीं जानवर और पक्षी भी प्रदूषण की मार झेल रहे हैं। जिले में ग्रेप सख्ती से लागू नहीं किया जा रहा है। जुर्माना लगाने के बाद अधिकारी उसे वसूल नहीं रहे हैं। बता दें कि दीपावली के बाद से प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक स्थिति में पहुंच गया था। अस्पतालों में सांस के मरीजों की संख्या बढ़ गई है। वहीं, प्रदूषण की रोकथाम के लिए पेड़ों की धुलाई व सड़कों पर पानी का छिड़काव किया जा रहा है लेकिन प्रदूषण को रोकने में यह नाकाफी है। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी उत्सव शर्मा का कहना है कि हवा की गति कम होने से प्रदूषण का स्तर बढ़ा है।

दिन एक्यूआइ

21 नवंबर : 319

22 नवंबर : 254

23 नवंबर : 268

24 नवंबर : 367

25 नवंबर : 362

जिले में क्षेत्रवार एक्यूआइ

क्षेत्र : एक्यूआइ

वसुंधरा : 336

इंदिरापुरम : 305

संजय नगर : 331

लोनी : 447