कड़े मुकाबले में रंजन सिंह अध्यक्ष, दिनेश कुमार मंत्री बने

उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के त्रैवार्षिक अधिवेशन में उठे मुद्दे

बस्ती – उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ का त्रैवार्षिक अधिवेशन और पदाधिकारियों का चुनाव बुधवार को बीआरसी दुबौलिया में सम्पन्न हुआ। त्रैवार्षिक अधिवेशन एवं शिक्षोन्नयन गोष्ठी के बाद संघ के प्रचार मंत्री एवं चुनाव अधिकारी डा. आज्ञाराम वर्मा, नन्दलाल यादव, चुनाव पर्यवेक्षक सुधीर तिवारी और हरेन्द्र यादव की देख रेख में 2 पदों पर चुनाव हुआ। इसमें 140 मत प्राप्त कर रंजन सिंह अध्यक्ष निर्वाचित हुये, उनके निकटतम प्रतिद्वंदी रमेश कुमार वर्मा को 129 मत प्राप्त हुये। मंत्री पद पर दिनेश कुमार सिंह को 183 मत प्राप्त कर विजयी घोषित हुये, उनके प्रतिद्वंदी करूणांकर को 85 मत हासिल हुये। अन्य पदों पर सर्व सम्मत से पदाधिकारी चुने गये।
चुनाव अधिकारी डा. आज्ञाराम वर्मा ने बताया कि सर्व सम्मति से अनिल कुमार ठाकरे वरिष्ठ उपाध्यक्ष, श्रीमती मीरा वैश्य, राजेश कुमार चौधरी, सुरेन्द्र प्रताप चौधरी, सुनील कुमार गुप्ता, नवीन प्रताप सिंह उपाध्यक्ष, मुकेश कुमार सिंह संयुक्त मंत्री, हेमलता, देवेश त्रिपाठी, रमेश चौरसिया, समर बहादुर, चन्द्रशेखर संगठन मंत्री, रेशमा खातून, मनोज अग्रहरि, चन्द्रभूषण रावत, रजनीश, मो. अमीन प्रचार मंत्री, विनोद यादव कोषाध्यक्ष, अरूण कुमार सिंह लेखाकार, आशाराम चौधरी आय व्यय निरीक्षक घोषित किये गये।
दुबौलिया बीआरसी पर संघ के जिलाध्यक्ष चन्द्रिका सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न हुये अधिवेशन में शिक्षकांें की समस्या, कर्तव्य, शिक्षा का स्तर बेहतर बनाने पर चर्चा की गई। वक्ताओं ने कहा कि शिक्षक अपनी ताकत को पहचाने और अधिकार हासिल करने के साथ ही कर्तव्य पर पूरा ध्यान दें। उन्होने पदाधिकारियों को शपथ दिलाते हुये कहा कि शिक्षक समाज की धुरी है। पदाधिकारियों से आग्रह किया कि वे अपने दायित्वों का निष्ठा से निर्वहन करें।
पदाधिकारियों को शपथ दिलाते हुये संघ के जिला मंत्री बालकृष्ण ओझा ने कहा कि शिक्षक समाज की रीढ है, हमें अपने दायित्वों के निर्वहन के साथ ही अधिकारों के लिये निरन्तर सक्रिय रहना होगा, संगठन की मजबूती आवश्यक है।
त्रैवार्षिक अधिवेशन मंें मुख्य रूप से संघ पदाधिकारी दुर्गेश यादव, प्रवीण श्रीवास्तव,गिरजेश चौधरी, वैभव मिश्र, रजनीश यादव, शिवप्रकाश सिंह, दौलतराम, शिवपूजन आर्य, सनद पटेल, प्रताप नरायन चौधरी, सुरेश गौड़ के साथ ही स्थानीय शिक्षक बड़ी संख्या में शामिल रहे।

See also  ऑनलाइन धोखाधड़ी के 20000 हजार रुपया हुए बैंक खाते में वापस