UKADD
Thursday, October 21, 2021 at 7:09 PM

शिक्षकों ने विपरीत स्कूल आवंटन का आरोप लगाते हुए हंगामा किया।

औरैया ।  पारस्परिक स्थानांतरण में शामिल शिक्षकों में करीब 18 महिलाएं शामिल रहीं। सचिव बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा जारी आदेश के तहत मानकों को पूरा करते हुए स्कूल आवंटन किया जाना था। जिसके लिए शिक्षकों को ककोर स्थित विभागीय कार्यालय में बुलाया गया था। लापरवाही के चलते काउंसिलिग समय पर शुरू न होकर शाम करीब सात बजे शुरू हो सकी। देर होने पर वैसे भी शिक्षक नाराज थे। 33 शिक्षकों में 33 स्कूल खोले गए। प्रक्रिया आनलाइन थी। स्कूल आवंटन में वरिष्ठता सूची व मानकों को पूरा न करने का आरोप लगाते हुए कुछ शिक्षकों ने विरोध किया और हंगामा करने लगे। साथ ही यह आरोप लगाया कि काउंसिलिग में स्कूलों की श्रेणी भी पृथक नहीं की गई। शिक्षकों के हंगामे को किसी तरह से अधिकारियों ने किसी तरह से शांत कराया। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी चन्दना राम इकबाल यादव का कहना है कि काउंसिलिग पूरी पारदर्शिता बरती गई है।

मुकदमा दर्ज होने से नाराज शिक्षकों ने मंगलवार को शहीद पार्क में धरना देकर विरोध जताया। कहा कि शिक्षकों के खिलाफ साजिश की गई है। भ्रष्टाचार का विरोध करने पर उनके खिलाफ बीईओ ने मुकदमा दर्ज करवा दिया। शिक्षक इससे डरने वाले नहीं है। जब तक मुकदमा वापस नहीं लिया जाता शिक्षक विरोध करते रहेंगे। आंदोलन उनका कोई नहीं रोक सकता। विपुल चौहान, विष्णुमणि पांडेय, रोहित उपाध्याय, अमित विसारिया, अनुराग यादव, संजीव पोरवाल मौजूद रहे।