बदइंतज़ामी के चलते छात्रा सुप्रिया शर्मा ने “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ”का नारा बुलंद कर गंवाई जान

गिनीज बुक में नाम दर्ज होना सुप्रिया शर्मा के लिए होगी सच्ची श्रद्धांजलि

आखिर क्या है यूरेशिया वर्ल्ड रिकॉर्ड? किसने दी डॉ जगदीश पिल्लई को यह अथॉरिटी

हरदोई 12 अक्टूबर -शायद ही किसी को विश्वास हो कि एक बेनामी संस्था के एक व्यक्ति के कहने पर जिले का पूरा प्रशासन रिकॉर्ड बनाने के चक्कर में जुट जाए और स्कूली बच्चों को कड़ी धूप में खड़ा करके बदइंतजामी के चलते एक मासूम की जान ले ले। अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर आयोजित “बेटी बचाओ ,बेटी पढ़ाओ” के स्लोगन के साथ स्कूली छात्राओं के महासंगम में “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” का नारा लगाते हुए एक पढ़ी-लिखी मासूम छात्रा गिनीज बुक में नाम दर्ज कराने में अपनी जान ही गंवा बैठी, यह प्रशासन की बद इंतजामीके चलते कैसे और किन परिस्थितियों में हुई। प्रगति नगर निवासी सुप्रिया शर्मा पुत्री नरेश चंद शर्मा कक्षा 9 की आर्य कन्या पाठशाला इंटर कॉलेज पिहानी चुंगी की छात्रा जीआईसी मैदान में 3 घंटे से ज्यादा वक्त तक कड़ी धूप में “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” नारे के साथ संदेशा देते हुए खुद को कुर्बान कर बैठी। पिता नरेश चंद शर्मा का कहना है कि उसकी बेटी सुप्रिया शर्मा जीआईसी प्रांगण में  भूखे प्यासे  4 घंटे रहने पर 2 बजे तेजी से बुखार आया और उसे अस्पताल लेकर इमरजेंसी में भर्ती कराया। इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। उनका प्रशासन से साफ कहना है कि जब इतनी बड़ी संख्या में स्कूली छात्राओं को इकट्ठा करना था तो प्रशासन सुरक्षा के मद्देनजर खानपान की व्यवस्था भी करता। अब प्रश्न उठता है कि जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा बुलाई गई आर्य कन्या पाठशाला इंटर कॉलेज की छात्राओं व उनके प्रबंधकों ने इस बात की तस्दीक नहीं की कि शामिल होने वाली छात्रा सुप्रिया शर्मा किन हालातों में उसे जीआईसी प्रांगण में भेजा गया, यदि उसकी पहले से ही तबीयत खराब थी तो प्रबंधकों को उसे जीआईसी प्रांगण में नहीं भेजना चाहिए था।बहरहाल सुप्रिया शर्मा द्वारा “बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ” के नारे को बुलंद करती हुई गिनीज बुक में वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज होने का सपना अधूरा छोड़ कर प्रशासन की बदइन्तेज़ामी के चलते दुनिया ही छोड़ गई।अब यदि गिनीज बुक में नाम दर्ज नहीं होता है सुप्रिया शर्मा, उनके परिजनों के लिए तथा हरदोई वासियों के लिए अपूरणीय क्षति होगी। सुप्रिया शर्मा का यह त्याग गिनीज बुक में यह मुहिम दर्ज होने पर सच्ची श्रद्धांजलि होगी। गौरतलब हो कि कथित डॉ जगदीश पिल्लई चार बार गिनीज बुक में नाम दर्ज करा चुके हैं। पर यूरेशिया वर्ल्ड रिकॉर्ड जैसे रिकॉर्ड के बारे में किसी को जानकारी नहीं है ।यूरेशिया वर्ल्ड रिकॉर्ड  का प्रमाण पत्र देने का अधिकार डॉक्टर जगदीश पिल्लई को किसने दिया है ? यह भी जानकारी में लाने की बात है।सूत्र बताते हैं कि जिलाधिकारी से मिलकर डॉ जगदीश पिल्लई ने एक प्रस्ताव रखा कि जिले भर की बच्चियों को एक साथ खड़ा करवाकर “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ”का नारा लगवाओ,जिससे विश्व रिकॉर्ड बन जाएगा।
फिर क्या था ,प्रशासन ने  जिले के अधिकतर स्कूलों से परीक्षा निरस्त कराकर  बच्चों को सुबह 9 बजे से दोपहर बाद तक जीआईसी स्कूल के खुले मैदान में रिकॉर्ड बनाने के चक्कर में बद इंतजामियों में उपस्थित रखा।लगातार एक ही स्थान पर 5 घण्टे कड़ी धूप में खड़े रहने व पीने का पानी न मिलने से कई बच्चों की तबियत खराब हो गई। हालांकि प्रशासन ने नगर पालिका की पानी की टंकी का इंतजाम अवश्य किया था किंतु इतने बड़े महासंगम में जब इतनी बड़ी कोशिश की जा रही है वह भी नवरात्र के पर्व के चलते,  प्रशासन को नाश्ते व पानी की एक-एक बोतल को भी छात्राओं के लिए इंतजाम  करनी चाहिए थी।वहीं अधिकतर विद्यालय के अधिकारी व कर्मचारी पेड़ों की छाया में बैठे हुए देखे गए।
इस घटना से लोगों में रोष व्याप्त है और सोशल मीडिया पर जम के प्रशासन की खिंचाई हो रही है तथा इस मासूम बच्ची की मौत के जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्यवाही की भी मांग की जा रही है। लोगों का कहना है कि सुप्रिया शर्मा की का गिनीज बुक में नाम दर्ज कराने के प्रयास में जान गवा बैठे सुप्रिया के लिए सच्ची श्रद्धांजलि तभी होगी जब प्रशासन द्वारा भर्ती लापरवाही के बाद इंतजाम के पहलुओं पर सघनता से जांच की जाए और आर्य कन्या पाठशाला इंटर कॉलेज पिहानी चुंगी के प्रबंधकों / प्रधानाचार्य से इस बात की तस्दीक की जाए कि छात्रा यदि पहले से बीमार थी, इस बीमारी की हालत में उसे जीआईसी प्रांगण भेजने के लिए किसने मजबूर किया। यह भी जांच का विषय हो सकता है। दोषियों को उजागर करने पर ही सुप्रिया शर्मा के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper